खाद्य पदार्थो के संरक्षण के कुछ घरेलु नुस्खे

खाने पीने की चीजों को खराब होने से बचाने के लिए और उन्हे लंबे समय तक सेहतमंद तरीके से उपयोग करने की प्रक्रिया को खाद्य संरक्षण कहते हैं ।इन प्रक्रियाओं में  नमक, सिरका, शक्कर जैसे कुछ उत्पादों का उपयोग किया जाता है और खाद्य पदार्थों का सूखनाऔरडिब्बाबंदीभी इसमें शामिल हैं। तो आज हम आपके साथ कुछ ऐसी ही प्रक्रिया शेयर करने जा रहे हैं, जिनसे कई पदार्थो का संरक्षण किया जा सकता है |

1. मटर :-

मटर निश्चित मौसम में ही उपलब्ध होता है अतः इसी मौसम में आप इसे खरीद कर छोटी सी प्रोसेस के साथ फ्रीज़ करके पुरे साल के लिए स्टोर कर सकते है, आइये जानते है कैसे |

आवश्यक सामग्री

* बड़े एवं ताजे मटर

* ठंडा बर्फ का पानी

* जीपर बैग

बनाने की विधि

  1. मटर के दाने चुनते समय ध्यान रखें कि स्टोर करने के लिए बड़ी मटर लें और मटर के दाने छिलके सेनिकाल लें।
  2. एक बर्तन में पानी उबाल लें और उबलते पानी में मटर डाल दें। करीब दो-तीन मिनट में सभी मटर के दाने पानी में ऊपर तैरने लगेंगे।
  3. छलनी की मदद से निकालकर, तुरंत ठंडे बर्फ़ वाले पानी में डाल दें। ठंडे पानी में 5-7 मिनट रखने के बाद आधे घंटे के लिए इन्हें फैलाकर हल्का-सा सुखा लें।
  4. फिर इन्हें जि़पर बैग में भरकर फ्रीज़र में रख लें। ज़िपर बैग में रख रहे हैं तो बैग की पूरी हवा निकाल दें उसके बाद ही फ्रीज़र में रखें। इससे मटर महीनों तक ताज़ी व मुलायम बनी रहेगी।
  5. जब इस्तेमाल करना हो तो थोड़ी देर के लिए पानी मे भिगोने के बाद इस्तेमाल करें।

 

2. आंवला :-

आंवलों के बीज हटाकर इनको छोटे टुकड़ों मे काट लें। अब उसको ज़िप लॉक बैग में भर दें। ज़िप बंद करकेबैगकेएककोनेसेअतिरिक्तहवादबाके निकाल दें और फिर फ्रीज़र में रख दें। इन्हें कभी भी जूस या चटनी बनाने में इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके अलावा आंवले को बहुत सी प्रक्रिया कर संरक्षित किया जा सकता है जैसे स्वीट आंवला कैंडी, अचार, मुरब्बा इत्यादि|

A. आंवला कैंडी

आवश्यक सामग्री

* 1 किग्रा आंवला

* 700 ग्राम शक्कर

बनाने की विधि

  1. आंवले को साफ पानी से धो लें |
  2. किसी बर्तन में इतना पानी डालकर उबालने रखिये कि आंवला उसमें अच्छी तरह डुब सकें |
  3. उबलते पानी में आंवले डालें और फिर से उबाल आने के बाद 2 मिनिट तक आंवले उबलने दें |
  4. गैस फ्लेम बन्द कर दें और इन आंवलो को 5 मिनिट के लिये ढककर रख दें |
  5. आंवले से पानी अलग कर लें, ठंडा होने पर इनको चाकू की सहायता से काट कर कलियां अलग अलग कर लें और गुठली निकाल कर फैंक दें| .
  6. ये आंवले की कलियां किसी बड़े बर्तन में भरें और 650 ग्राम चीनी ऊपर से भरकर रख दें |
  7. दूसरे दिन आप देखेगे सारी चीनी का शरबत बन गया है| अभी आंवले के टुकड़ो को हिलाकर 2 से 3 दिन के लिए ढककर रखें |
  8. 2-3 दिन बाद यह आंवले के टुकड़े शरबत में तैरने के बजाय बर्तन के तले में नीचे बैठ जायेंगे |
  9. अब इस शरबत को छलनी से छान कर अलग कर दें | छलनी में आंवले के टुकड़े रह जायेंगे |पूरी तरह से आंवले से शरबत निकालकर इन टुकड़ों को थाली में डालकर धूप में सुखा लें | आवला कैंडी तैयार है |

नोट :- 1. आंवला कैन्डी को मसालेदार बनाने के लिये आप सूखी कैन्डी में पिसी हुई चीनी के साथ एक छोटी चम्मच काला नमक, आधा छोटी चम्मच काली मिर्च पाउडर और आधा छोटी चम्मच अमचूर पाउडर मिलाएं | जिन्हें एकदम मीठा पसंद नहीं हो वे चटपटी आमला कैन्डी खा सकते हैं|

  1. उपरोक्त बची हुई चाशनी और आंवले का ज्यूस आप स्टोर कर सकते हैंऔर गर्मी के दौरान शरबत के रूप में आप इसे उपयोग में ले सकते हैं |शरबत को कम गैस फ्लेम पर पकने रख दें जब ये शरबत गाढ़ा दिखाई देने लगे, शरबत को ठंडा करें और छान कर किसी कांच याफूडग्रेड प्लास्टिक के एअर टाइट कन्टेनर में भर कर फ्रीज़ में स्टोर करें |

 

B.आंवले का अचार

आवश्यक सामग्री

* आंवला 2 किलो

* राई 2 बड़े चम्मच

* मेथी दाने 2 बड़े चम्मच

* जीरा 1 चम्मच

* सौंफ 1 चम्मच

* 500 ग्राम सरसों का तेल

* 1 बड़ा चम्मच हल्दी पाउडर

* 2 बड़े चम्मच लाल मिर्च पाउडर

* 1 कटोरी नमक

बनाने की विधि

  1. आंवले का अचार बनाने के लिए सबसे पहले आंवले को पानी से अच्छी तरह धो लें।
  2. अब एक बर्तन में आंवले और पानी डालें और मध्यम आंच पर 10 मिनट उबालें। (चेक करें की आंवले हाथ से दबाने पर टूट रहे हो)
  3. आंवले को ठंडा कर लें एवं आंवले की कलियां निकाल लें और बीज अलग कर दें।
  4. अब एक पैन में मेथीदाना, राई, जीरा और सौंफ डालकर हल्का भून लें। फिर मिक्सर जार में डालकर दरदरा पीस लें।
  5. फिर आंवले के टुकड़ों को कटोरे में डालें और इसमें दरदरा पिसा हुआ मसाला, नमक, हल्दी, मिर्च पाउडर डालकर अच्छी तरह चम्मच से मिला लें।
  6. अब एक पैन में सरसों का तेल को गर्म करें और ठंडा होने दें।
  7. ठंडा होने के बाद आंवले में तेल डालकर अच्छी तरह चम्मच से मिला लें।
  8. अब इसे साफ सुथरी कांच की बरनी में डालकर 2-3 दिनों के लिए छोड़ दें । आंवले का अचार तैयार है।

नोट :- आप अचार बनाने के लिए रेडीमेड अचार मसाले का भी चुनाव कर सकते हैं |

 

C. आंवले का मुरब्बा

आवश्यक सामग्री

* 1 किग्रा आंवला

* 1.5 किग्रा चीनी

* 10-11 इलायची

* 1 छोटा चम्मच काला नमक

* ½ छोटा चम्मच काली मिर्च पाउडर– (इच्छानुसार)

बनाने की विधि

  1. इलाइची को छीलकर कूटनी से कूटकर पाउडर बना लें |
  2. आंवलो को 2 से 3 बार पानी से अच्छे से धो लें और पानी में डालकर 1 दिन तक रख दें |
  3. 1 दिन बाद आंवलो को पानी से निकालकर स्वच्छ पौंछ कर रखें |
  4. अब एक एक आंवला लेकर सावधानीपूर्वक उसे काटे चम्मच की सहायता से चारो तरफ छेद कर के रखें |
  5. किसी बर्तन में इतना पानी लें कि उसमें आंवले पूरी तरह डूब जाएं एवं बर्तन को ढककर गैस पर पानी उबलने रख दें |
  6. पानी में उबाल आने पर इसमें आंवले डाल दें और अब 10 मिनट तक आंवलों को पकने दें |
  7. अब गैस बंद कर दें और आंवलो को ढककर 5 मिनिट उसी पानी में रहने दें ताकि ये नरम हो जाएं और 5 मिनिट बाद, इन्हें पानी से निकाल लें |
  8. कड़ाही में चीनी, आंवले और आधा कप पानी डाल दें और धीमी आंच पर पकने दें और चाशनी बना लें |
  9. आंवलों को चीनी में मिक्स कर दें और थोड़ी-थोड़ी देर में चीनी को चलाते हुए इसे 25 मिनिट तक पकाते रहें |
  10. अभी चाशनी गाढ़ी हो चुकी है; अब गैस बंद कर के इसे ऐसे ही ढककर रखें |
  11. चाशनी को थोड़ी ठंडी होने के बाद इसमें मसाले- काला नमक, काली मिर्च पाउडर और इलाइची पाउडर डालकरअच्छे से मिक्स कर कांच की बरनी में डालें |
  12. मुरब्बा बन कर तैयार है | आप इसका उपयोग 2-3 दिन बाद करें |

 

3. मेथी को स्टोर करने का तरीका (कसूरी मेथी) :-

सर्दियों के मौसम में हरी सब्जियां खूब आती है।  हरी मेथी पौष्टिक के साथ साथ टेस्टी भी होती हैं। इसलिए सर्दियां जाने से पहले आप मेथी को इस तरह स्टोर कर लें कि बाद में पूरे साल किसी भी सीजन में इसका लुत्फ उठाया जा सकें।

बनाने की विधि

  1. बाज़ार से लाई मेथी को सबसे पहले खोलकर साफ कर लें। साफ और बड़े हरे पत्तो को अलग कर लें।
  2. अब मेथी के पत्तों को धोकर अच्छी तरह से सुखा लें |
  3. मेथी पत्तों को आप मलमल के एक कपड़े पर रखकर दो से तीन दिन तक धूप में रखें। उसके ऊपर भी मलमल का कपड़ा डाल दें ताकि इन पर धूल ना जमें |
  4. बीच में पत्तों को उलटते पलटते हुए सुखाते रहें।
  5. दो से तीन दिन में मेथी की पत्तियां सूख कर कड़क हो जाती है।
  6. अब इन्हें हाथ से क्रश कर लें। बिलकुल कसूरी मेथी की तरह। क्रश करने के बाद इन्हें किसी एयर टाइट डिब्बे में स्टोर करके रख लें।
  7. आपकी स्वादिष्ट मेथी स्टोर हो चुकी है। आप जब चाहें इसे निकाल कर पराठा/पूरी में डाल सकते हैं।
  8. ये कसूरी मेथी बन गई है और अब इसे सब्जी,नान इत्यादि में भी डालकर खाने का स्वाद बढ़ा सकते हैं।
  9. आप चाहें तो इसे कुछ देर भिगोकर इसे सब्जी या भाजी के तौर पर भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

नोट :- परिश्रम से बचने के लिए आप बाज़ार  में उपलब्ध कसूरी मेथी का भी चुनाव कर सकते हैं |

 

4. पुदीना को स्टोर करने का तरीका

पुदीना को स्‍टोर करने के कई तरीके हैं। मगर, हम आपको पुदीने को स्‍टोर करने के 2 आसान और बेस्‍ट तरीके बताते है, जिससे आप 2 हफ्ते से लेकर 1 वर्ष तक पुदीने को आसानी से स्‍टोर कर सकते हैं।

  1. आपको इसके लिए पुदीने की पत्तियों को साफ पानी से धोना है और फिर उसकी 5-6 पत्तियों को आइस क्‍यूब ट्रे में डालकर उसमें पानी भर कर फ्रिजर के अंदर रख देना है। ऐसा करने से आप पुदीने की पत्‍ती को काफी महीनो तक स्‍टोर करके रख सकते हैं।
  2. आप पुदीने को सुखा कर भी 1 साल तक उपयोग कर सकते हैं। इसक लिए पुदीने की पत्‍ती को अच्‍छी तरह पानी से साफ करें। इसके बाद आपउन्‍हें एक टॉवल से पोछ कर पेपर टॉवल में रैप करके रख दें। इसे धुप में ना सुखाएं क्योंकि धूप में रखने से पुदीने की पत्‍ती खराब हो जाती है | 3-4 दिन तक आप पेपर टॉवल के अंदर ही पुदीने की पत्तियों को रहने दें। ऐसा करने से पत्तियां पूरी तरह से सूख जाती हैं और आप इसका पाउडर बना कर इसे स्‍टोर कर सकते हैं। इस मसाले का आप सलाद और रायते में डालकर उपयोग में ला सकते हैं ।

 

5. लाल मिर्च पाउडर:- वैसे तो लाल मिर्च पाउडर आसानी से बाज़ार में उपलब्ध हो जाता है परन्तु अगर आप घर पर लाल मिर्च पाउडर बनाना चाहते हैं तो प्रक्रिया निचे दी है |

आवश्यक सामग्री

* ½ किलो लाल मिर्च (नियमित उपयोग की जाने वाली लाल मिर्च)

* 100 ग्राम कश्मीरी लाल मिर्च

* कुछ लौंग और हींग के बड़े टुकड़े

नोट :- लाल मिर्च पाउडर बनाने के लिए नियमित उपयोग की जाने वाली लाल मिर्च और कश्मीरी लाल मिर्च का उपयोग किया जाता है। नियमित लाल मिर्च आवश्यक तीखापन देती है और कश्मीरी लाल मिर्च प्राकृतिक तीखा गर्म लाल रंग देती है।

बनाने की विधि

  1. लाल मिर्च पाउडर बनाने के लिए सबसे पहले लाल मिर्च को धूप में अच्छी तरह सुखा लें।
  2. कश्मीरी लाल मिर्च का इस्तेमाल करने से मिर्च पाउडर का रंग एकदम लाल होता है।
  3. बिना डंठल तोड़े ही इन लाल मिर्च को धूप में रखें|
  4. जब मिर्च अच्छी तरह सूख जाएं तब इनके डंठल तोड़ें।
  5. अब इन सूखी हुई लाल मिर्च को ग्राइंडर में कश्मीरी लाल मिर्च डालकर अच्छी तरह पीसें।
  6. पीसने के बाद मिर्च पाउडर को छलनी से छान लें और मोटे दानों को फिर से पीसकर छानकर रखें।
  7. इस पाउडर को एक कांच के एयरटाइट डिब्बे में डालकर रखें और जब भी खाना बनाना हो तो आवश्यकतानुसार लाल मिर्च पाउडर उपयोग करें।
  8. लम्बे समय तक उपयोग करने के लिए इसमें लौंग और हींग के टुकड़े डालकर रखें|

 

आप कौन से पदार्थ कैसे स्टोर करते हैं? उसकी विधि के बारे में हमें हमारे सोशल मीडिया पेज पर आप डायरेक्ट मैसेज कर बता सकते हैं | हम आपकी दी गई जानकारी का विश्लेषण कर उसे हमारे ब्लॉग में शामिल करेंगे और हमारे सोशल मीडिया पेजों पर आपका अभिवादन करेंगे|

अगर आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया है तो हमारे ब्लॉग और फ़ेसबुक , इंस्टाग्राम एवं ट्विटर पेजों का अनुसरण कर उन्हें शेयर करें |

पाक कला से सम्बंधित कुछ अजीबो गरीब किस्से

हम आज आपके लिए खाद्य पदार्थो से सम्बंधित कुछ ऐसे...

Leave your comment

9 − 8 =